कहाँ थमेगा - Poetry by Ashutosh
woman, model, portrait
turkey pigeon, bird, dove
Rest of the time(pal)

Motivation poem in Hindi

एक-एक पल बीता, एक-एक दिन बीत गये,
मास गये पल-पल कर औ’ कुछ साल गये,
कितने सूरज जन्मे और बड़े होकर

अपनी रक्तिम किरणे जग को दिया किये।
कितने सूरज उदित हुए फिर अस्त हुए;
अंतर के स्वर को दाबे सा मौन-मौन
लेकिन प्रश्न एक है,अब भी वहीं खड़ा,

कह दो, आज तुम्हें युग की सौगन्ध है, युग-
बचपन और बुढ़ापे का भ्रम कहा थमेगा ?
चलता जन्म-मरण का पहिया कहाँ थमेगा ?

उपजी बूँद ओस की और फिर फूट गयी,
तो फिर उसके जीवन का मतलब क्या था ,
पतझड़ को यदि फिर शासक बन आना था,
तो सावन के यौवन का मतलब क्या था ?
अगन की तपन अगर निरंकुश बनती थी,
पानी के बेबस मन का मतलब क्या था ?
कहाँ रुपहले सपनो का वह सौदागर,

आज वही सब प्रश्नो का उत्तर देगा –
स्वपन -महल का छनभर बनना कहाँ थमेगा ?
चलता जन्म -मरण का पहिया कहाँ थमेगा ?

Kahan Thamega

Ak-Ak Pal Beeta, Ak-Ak Deen Beet Gaye,

Mas Gaye Pal-Pal Kar Au’ Kuch Sal Gaye,

Kitane Suraj Janme Aur Bade Hokar

Apani Raktim Kirane Jag Ko Diya Kiye

Kitane Suraj Udit Hue Fir Ast Hue;

Antar Ke Swar Ko Dabe Sa Maun-Maun

Lekin Prasn Ak Hai, Ab Bhi Vahin Khada,

Kah Do, Aj Tumhe Yug Ki Saugandh Hai, Yug-

Bachpan Aur Budape Ka Bhram Kahan Thamega?

Chalata Janm-Maran Ka Pahiya Kahan Thamega?

Upaji Bund Os Ki Aur Fir Fut Gayi,

To Fir Usake Jiwan Ka Matlab Kya Tha,

Patjhad Ko Yadi Fir Shasak Ban Ana Tha,

To Sawan Ke Yovan Ka Matlab Kya Tha?

Agan Ki Tapan Agar Nirankush Banani Thi,

Pani Ke Bebus Man Ka Matlab Kya Tha?

Kahan Rupahale Sapano Ka Vah Saudagar,

Aj Vahi Sab Prasno Ka Uttar Dega-

Swapn-Mahal Ka Chhadbhar Banana Kahan Thamega?

Chalata Janm-Maran Ka Pahiya Kahan Thamega?

Related Posts