जीना पड़ा - Poetry by Ashutosh

जीना पड़ा

dove, freedom, peace
jiwan

तुमने था भेजा, चाह तुम्हारी थी,
मुस्कान थी तेरी, आह हमारी थी,
अनजानी धरती पर जीना पड़ा,
सहना पड़ा, आँसू पीना पड़ा।

छला गया अन्तर्मन,
बिखर गया यह जीवन,
श्वास आस की टूटी,
रास प्यास की छूटी।

हर आवरण तेरा झीना पड़ा,
अनजानी धरती पर जीना पड़ा।

मन है बौरा, न छोड़े
यह अपनी डगमग को,
राहें बना कर भूलें
जाना है किस मग को।
हाथ अनाड़ी के नगीना पड़ा
अनजानी धरती पर जीना पड़ा।

मोह निशा भंग न हुई,
मन तिमिर टटोलता रहा,
मन की न बात कह सका
बेबस मुँह बोलता रहा

जन्मो का जीर्ण वस्त्र सीना पड़ा
अनजानी धरती पर जीना पड़ा।

JEENA PADA

dove, freedom, peace
JIWAN WITH HUMMING BIRD

Tumane Tha Bheja, Chah Tumhari Thi,

Muskan Thi Teri, Aah Hamari Thi

Anjani Dharaty Par Jeena Pada,

Sahana Pada, Ansu Peena Pada.

Chhala Gaya Anterman,

Bikhar Gaya Yah Jeewan

Swas Aas Ki Tuty

Rah Pyas Ki Chhuty

Her Awaran Tera Jheena Pada

Anjani Dharaty Par Jeena Pada

Man Hai Baura N Chhode,

Yah Apani Dagmag Ko,

Rahe Banakar Bhule

Jana Hai Kis Mag ko

Hath Anadi K Nagina Pada

Anjani Dharaty Par Jeena Pada

Moh Nisha Bhang n Hui,

Man Timir Tatolta Raha

Man Ki N Bat Kah Sacha

Bebas Muh Bolta Raha

Janmo Ka Jirn Vastr Seena Pada

Anjani Dharaty Par Jeena Pada.