बेरोजगारी | MOTIVATIONAL POEM | POETRY BY ASHUTOSH

बेरोजगारी

no money, poor, money

पेड़ की छाँव सुरच्छित होती
ऐसे ही सुरच्छित मेरा करियर हो जाता
रात दिन बस दिए जलाता भगवान को
की पूरे सारे अरमान हो जाते
इधर-उधर की भागदौड़ में हासिल मुझको कुछ हो जाता
माँ-बाप की बच्चो पर छाँव सुरच्छित होती
ऐसा ही सुरच्छित मेरा करियर हो जाता
कैसे बेगाने हाल है मेरे
इस हाल में भी कभी बेहाल है मेरे
इस बेहाली दुनिया में एक दो जो पांव है रखते
वहाँ पे भी बस कांटे रहते
ऐसे काँटों से सुरच्छित मेरा चप्पल हो जाता
इस बेगानी दुनिया में सुरच्छित मेरा करियर हो जाता।
राहो पे बस चलते हुए एक ही बात सताती है
बेरोजगारी की सुई मुझे बार-बार चुभाती है
कुछ करने को जी करता है
पर मज़बूरी के कुछ हाथ मेरे पथ के आड़े आती है।
इन्ही सब बातो को लेकर चिंता मुझे सताती है
चिंताओं में डुबकर किसी का कुछ न जाता है
मेरा ही सब जाता है कुछ समझ नहीं आता है।
चिंताओं में आस की एक बूंद के हौसले से सास मेरे सुरच्छित हो जाते।
जैसे पेड़ की छाँव होती….
ऐसे ही सुरच्छित मेरा…

BEROJGARY

no money, poor, money

Per Ki Chhaw Surachhit Hoty

ase hi Surachhit Mera Career Ho Jata

Raat Din Bus Diye Jalata Bhagwan Ko

Ki Pure Saare Arman Ho Jaate

Idhar-Udhar Ki Bhagdaur Me Hasil Mujhako Kuch Ho Jaata

Maa Baap Ki Bachho Par Chhaw Surachhit Hoty

Asa Hi Surachhit Mera Career Ho Jaata

Kaise Begane Haal Hai Mere

Is Haal Me Bhi Kabhi Behaal Hai Mere

Is Behali Duniya Me Ak Do Jo Paaw Rakhate

Waha Pe Bhi Bus Kaante Rahate

Ase Kaanto Se Surachhit Mera Chhapal Ho Jaata

Is Begani Duniya Me Surachhit Mera Career Ho Jaata

Raaho Pe Bus Chalate Hue Ak Hi Baat Satati Hai

Berojgar Ki Sui Mujhe Baar-Baar Chubhaty Hai

Kuch Karane Ko Jee Karata Hai

Per Majburi Ke Haath Mere Path Ke Aage Aty Hai

Inhi Sub Baato Ko Lekar Chinta Mujhe Sataty Hai

Chintao Me Dubkar Kisi Ka Kuch N Jaata Hai

Mera Hi Sub Jaata Hai Kuch Samajh Nahi Ata Hai

Chintao Me Ass Ki Ak Bund Ke Hausalo Se Saas Mere Surachhit Ho Jaate

Jaisy Per Ki Chhaw Hoty………..

Ase Hi Surachhit Mera………..