November 2020 - Poetry by Ashutosh
bridge, river, city

जब कोई परिवर्तन किसी में ढूढता है।

कितना भी सोचो कुछ न कुछ तो छूटता है।

वो दोस्ती टूटती है।

वो रिस्ता छूटता है।

जब दर्द का चिराग लेकर मुझमे हर कोई विश्वास ढूढता है।

जिंदगी बदल जाएगी।

Read More