Google | Motivational Poem | - Poetry by Ashutosh
google, seo, search engine-408194.jpg
google, seo, search engine-408194.jpg
Google

जो नीचे से ऊँचा है उठाता
हर सवाल का जवाब मिल जाता
फिर नहीं कुछ रह जाता
गूगल सबको राह दिखाता

हम तो रहते किसी धुन में
गूगल अपना धुन बनाता
हर प्रश्न का जवाब मिल पाता
तकनीकी से आसान बनाता
गूगल सबको राह दिखाता

गूगल के हर एक उत्पाद
सबसे अच्छे सबसे खास

प्रयोग में बड़ाई बारम-बार
अब कुछ नहीं बहाने पास

हर सवाल के जवाब मिलते
आज के आज

तकनीक ही जवाब देहि बन जाता
गूगल सबको राह दिखाता

युद्ध स्तर में इसके नहीं नजदीक
विश्व स्तर का है तकनीक
हर नियम में गूगल की दस्तक
गूगल में नियम को कायम रखने वाले की
होती गूगल में तस्वीर

गूगल जब भी खुलता है
कुछ न कुछ वो खोजता है

मन की दुविधा मिट जाती
जब हर सवाल का जवाब मिल जाता
फिर नहीं कुछ रह जाता
गूगल सबको राह दिखाता

जो नीचे से ऊँचा है उठाता
हर सवाल का जवाब मिल जाता
फिर नहीं कुछ रह जाता
गूगल सबको राह दिखाता

google poetry

Jo Neeche Se Uncha Hai Uthata

Har Sawal Ka Jawab Mil Jata

Fir Nahi Kuch Rah Jata

Google Sabako Raah Dikhata

Ham To Rahate Kisi Dhun Me

Google Apna Dhun Banata

Har Prashn Ka Jawab Mil Pata

Takneeki Se Asan Banata

Google Sabako Raah Dikhata

Google Ke Har Ak Utpad

Sabase Achhe Sabase Khass

Prayog Me Badai Baram-Bar

Ab Kuch Bhi Nahi Bahane Pass

Har Sawal Ke Jawab Milate Aaj Ke Aaj

Takneeki Hi Jawab Dehi Ban Jata

Google Sabako Raah Dikhata

Yudh Star Me Isake Nahi Najdeek

Vishw Star Ka Hai Takneek

Har Niyam Me Google Ki Dastak

Google Me Niyam Ko Kayam Rakhane Wale Ki

Hoty Google Me Tasveer

Google Jab Bhi Khulata Hai

Kuch N Kuch Wo Khojata Hai

Man Ki Duvidha Mit Jaty

Har Sawal Ka Jawab Mil Jata

Fir Nahi Kuch Rah Jata

Google Sabako Raah Dikhata

Jo Neeche Se Uncha Hai Uthata

Har Sawal Ka Jawab Mil Jata

Fir Nahi Kuch Rah Jata

Google Sabako Raah Dikhata

Related Posts