Life Insurance Corp[oration Of India | Inspirational | - Poetry by Ashutosh
insurance, life insurance, car insurance
insurance, life insurance, life insurance corporation,car insurance
insurance

Poetry

आओ प्यारे साथ हमारे
जनसेवा हित साँझ सकारे।

सम्यक संचय और निवेशन
जन-जन का ही हित संवर्धन

निगम नीति का उच्च लछ्य है
व्यक्ति और परिवारोत्थान।

लोक हितैशी सेवा दीछा
जन मन प्रेरित सतत सुरछा
“योगछेम” ही परमध्येय है
निगम हमारा प्रिय संस्थान।

उठो निगम के सच्चे सेवक
अभिकर्ता जन और प्रबंधक
बुला रहे हैं,कार्य लोकहित
तुम पर निर्भर जनकल्याण।

आओ प्यारे साथ हमारे
जनसेवा हित साँझ सकारे।

Nigam Geet

Aao Pyare Sath Hamare

Janseva Hit Sanjh Sakare.

Samyak Sanchay Aur Niveshan

Jan Jan Ka Hi Hit Sanvardhan

Nigam Neety Ka Uchch Lachhya Hai

Vyakti Aur Parivarotthan.

Lok Hitaishi Seva Deechha

Jan Man Prerit Satat Surachha

Yogchhem Hi Paramdhyey Hai

Nigam Hamara Priya Sansthan.

Utho Nigam Ke Sachhe Sevak

Abhikarta Jan Aur Prabandhak

Bula Rahe Karya Lokhit

Tum Par Nirbhar Jan Kalya.

Aao Pyare Sath Hamare

Janseva Hit Sanjh Sakare

कौन कितना साथ होता है
जीवन के पास होता है
जिसके साथ बीमा होता है
जीवन के साथ होता है
जीवन के बाद होता है

कौन जाने किसके साथ आगे क्या होता है
उस सुरक्षा के साथ जीवन में
अपनो के पास होता है
जिसके साथ बीमा होता है
जीवन के साथ होता है
जीवन के बाद होता है

रक्षा-सुरक्षा करेगी संस्था
जिम्मेदार नागरिको की होगी सुरक्षा
बीमा के साथ होगा रिश्ता सच्चा
बीमा के साथ सच्चा साथ होता है
जीवन के साथ होता है
जीवन के बाद होता है

Related Posts