उम्मीद की किरण - Poetry by Ashutosh

उम्मीद की किरण नजर आती नहीं

जब रास्ता कोई दिखलाता नहीं।

trees, forest, fog

पीछे छूट गया  जो रास्ता

उसे  पीछे मुड़कर देखा जाता नहीं।

आता नहीं है मुझको कुछ भी

फिर भी पथ पर आगे  बढ़ता रहता

कभी न रुकता चलता रहता।

क्या रखा है भूतकाल  मे

भविष्य कॉल की सोच-सोच के

वर्तमान में कदम रखा है।

दम भरते मंजिल की आहट जगाती रही

असफलता मुझे सताती रही।

काम की नौबत  ऐसी आती रही

कुछ और बात युहि बताती रही ।

उम्मीद की किरण नजर आती  नहीं  

जब  रास्ता कोई  दिखलाता नहीं।

जिस डगर चला उस डगर  कभी चला नहीं

 किस उम्मीद पर टिकी हैं। पूरी दुनिया 

ये रव्याल कभी मन में पला नहीं

जिस पल हर कदम चला गली

वहाँ पर फिर भी  कुछ मिला नहीं।

उम्मीद……….

UMMID KI KIRAN

Ummid Kiran Najar Aaty Nahi

Jub Rasta Koi Dikhalata Nahi

Pichhe Chhut Gaya Jo Rasta

Use Pichhe Murkar Dekha Jata Nahi

Aata Nahi Hai Mujhko Kuch Bhi Phir Bhi

Path Per Aage Barata Rahata

Kabhi N Rukata Chalata Rahata

Kya Rakha Hai Bhutkal Me

Bhavisya Kal Ki Soch-Soch Ke

Vartman Me Kadam Rakha Hai

Dum Bharate Manjil Ki Ahat Jagaty Rahi

Asafalta Mujhe Sataty Rahi

Kam Ki Naubat Asi Aty Rahi.

Kuch Aur Bate Yuhi Bataty Rahi

Ummid Ki Kiran Najar Aty Nahi

Jub Rasta Koi Dikhalata Nahi

Jis Dagar Chala Us Dagar Kabhi Chala Nahi

Kis Ummid Per Tiki Hai Pury Duniya

Ye Khyal Kabhi Mun Me Pala Nahi

Jis Pal Her Kadam Chala Galy

Waha Per Phir Bhi Kuch Mila Nahi

Ummid Ki KIRAN…………

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *