मधुशाला - Poetry by Ashutosh
brandy shop, distillation, alcohol
brandy shop, distillation, alcohol
MADHUSHALA

मृदु भावों के अंगूरों की

आज बना लाया हाला,
प्रियतम,अपने ही हाथो से
आज पिलाऊंगा प्याला;
पहले भोग लगा लूँ तुझको
फिर प्रसाद जग पायेगा;
सबसे पहले तेरा स्वागत
करती मेरी मधुशाला।

प्यास तुझे तो, विश्व तपाकर
पूर्ण निकालूँगा हाला,
एक पाँव से साकी बनकर
नाचूँगा लेकर प्याला;
जीवन की मधुता तो तेरे
ऊपर कब का वार चुका
आज निछावर कर दूंगा मैं
तुझ पर जग की मधुशाला।

प्रियतम, तू मेरी हाला है,
मैं तेरा प्यासा प्याला,
अपने को मुझमें भरकर तू
बनता है पीनेवाला;
मैं तुझको छक छलका करता,
मस्त मुझे पी तू होता;
एक दूसरे को हम दोनों
आज परस्पर मधुशाला।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *