शिक्षक - Poetry by Ashutosh
school, classroom, boys
teacher, learning, school
CHILDRENS CLASS

शिक्षक वो जो हमें पढ़ाते
हमको तो इन्शा है बनाते
कुछ बातें हम कह जाते
बहुत कुछ बातें वो कह जाते

कोई ऐसी बात अगर लग जाती
जिंदगी हमारी बन जाती

जिनका दर्जा माता-पिता से बढ़कर होता
शिछा से भी बढ़कर है वो गुरु हमारे

शिछा हमारी अधूरी रह जाती
शिक्षक अगर जिंदगी में न आते

ऐसा एक अहसास अगर हो
उस अहसास से पढ़ाई में अव्वल आ जाते

तब बचपन की वो शिछा है याद आई
जब A B C D बहुत सताई

धीरे-धीरे शिछक ने कुछ बाते बताई
तब जाके 1,2 की गिनती है आई

ऐसे जो अहसान तुम्हारा
हे शिक्षक तुमको प्रणाम हमारा

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *