SHAYARI - Poetry by Ashutosh

SHAYARI

बुलंद हौसला

हौसला है हमारे पास
हौसला है तुम्हारे पास
हम इसे बुलंद करे
तो आगे बड़ेगी हमारी आस
इतना अगर करें काम
तो समझलेना
सफलता है हमारे पास

सवेरा

आँखों में हमेशा अँधेरा नहीं रहता
बातों में किसी दुःख का सवेरा नहीं रहता
एक बार मन की आँखों से तो देख
मन की आँखों में
किसी के बातों का बसेरा नहीं रहता

सपना जो अपना

खुद की कोई मंजिल नहीं
खुद के कोई सपने नहीं
सदा दुसरो के सपनो के लिए काम करना
जो कभी अपने नहीं

कठिन रास्ता

जिंदगी के रास्ते में भी कांटे होते है
फूल तो कलियों में देखने को मिलते है
पर जिंदगी के रास्ते में फूल और काँटों से दोस्ती
कर लेने वालो के लिए
जिंदगी के रास्ते भी छोटे होते है

सफर

जो सफर इख्तियार करते है
वो दरिया को पार करते है
जरा चलकर तो देखो यारो
रास्ते खुद इंतजार करते है

जिंदगी