Dil Diyan Gallan

https://poetrybyashutosh.com/wp-content/uploads/2021/01/Dil-Diyan-Gallan-Tiger-Zinda-Hai-128-Kbps.mp3

कच्ची डोरियों,डोरियों,डोरियों से
मैनु तू बांध ले
पक्की यारियों यारियों यारियों में
होंदे ना फासले
ये नाराजगी कागजी सारी तेरी
मेरे सोरेया सुन ले मेरी
दिल दियां गल्लां
करांगे नाल नाल बह के
अक्ख नाले अक्ख नू मिला के

दिल दियां गल्ला
करांगे रोज रोज बह के
सच्चियाँ मोहब्बतां निभां के
सताये मैनु क्यों
दिखाये मैनु क्यों
ऐवे झूठी मुठी रूस के रूसाके
दिल दियां गल्लां
करांगे नाल नाल बह के
अक्ख नाले अक्ख नू मिला के

तेनु लखां तों छुपा के रखां
अक्खां ते सजा के
तू ए मेरी वफ़ा
रख अपना बना के
मैं तेरे लइयां तेरे लइयां यारा
ना पाविं कदे दूरियाँ
मैं जीना हां तेरा,तू जीना हैं मेरा
दस लेना की नखरा दिखा के
दिल दियां गल्लां
करांगे नाल नाल बह के
अक्ख नाले अक्ख नू मिला के
दिल दियां गल्लां

रातां कलियाँ,कलियाँ,कलियाँ ने
मेरे दिल सांवले
मेरे हानियाँ , हानियाँ हानियाँ जे
लग्गे तू ना गले
मेरा आसमां मौसमां भी दी ना सुने
कोई ख्वाब ना पूरा बुने
दिल दियां गल्लां
करांगे नाल नाल बह के
अक्ख नाले अक्ख नू मिला के
पता है मेनू क्यों छुपा के देखे तू
मेरे नाम से नाम मिला के

दिल दियां गल्लां
करांगे नाल नाल बह के
अक्ख नाले अक्ख नू मिला के
दिल दियां गल्लां

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Exit mobile version