समय | MOTIVATIONAL POEM | POETRY BY ASHUTOSH

समय

waiting, wristwatch, man
TIME VALUE FOR TIME IS MONEY

समय सीमा तय की थी
जिंदगी में कार्य के अन्तराल की
कोई वजह बन जाता मेरे
समय अवधि के चाल की
इस चाल से हर कार्य पूर्ण हो जाये
ये रहता मन के किसी कोने में
पर कार्य जब भी पूर्ण हो पाये
समय युही बीतता जाये
जो मन थोड़ा सकुचा सा जाता
सकुचे मन से बात थोड़ी समझ है आयी
समय सब ने एक समान है पायी
उस एक सामान समय से
चंचल मन ने बांधा है उत्पन्न करायी
इधर उधर की भागदौड़ में
मन की तेज़ रफ़्तार से
हम नहीं चल पाते है
मन को अगर कुछ भी भा जाता
समय का पत्ता गोल हो जाता
जो समय निर्धारित मेरे
वही समय प्रबन्थ हो पाते
सुबह सुबह जब देर होती
शाम हमारी देर से आती
बस अंतर इतना होता
कि अन्तराल भी साथ होती
घड़ी टिक टिक चलती रहती
हम नहीं चल पाते है
समय की पगडंडियों पे भागते ही रह जाते है
मोह मोह का बंधन है इससे कब छुट पायेंगे
समय बड़ा बलवान है हकीकत में कब लायेंगे

SAMAY

time, stopwatch, clock
TIME VALUE FOR TIME IS MONEY

Samay Seema Tay Ki Thi

Jindagi Me Karya Ke Antral Ki

Koi Wajah Ban Jaata Mere

Samay Awadhi Ke Chal Ki

Is Chal Se Her Karya Purna Ho Jaaye

Ye Rahata Man Ke Kisi Kone Me

Per Karya Jub Bhi Purna Ho Paaye

Samay Yuhi Bitata Jaaye

Jo Man Thora Sakucha Sa Jaata

Sakuche Man Se Baat Thori Samajh Hai Aayi

Samay Sabane Ak Saman Hai Paayi

Us Ak Saman Samay Se

Chanchal Man Ne Bandha Hai Utpann Karayi

Idhar Udhar Ki Bhag Daur Me

Man Ki Tez Raftar Se

Hum Nahi Chal Paate Hai

Mun Ko Agar Kuch Bhi Bha Jaata

Samay Ka Patta Gol Ho Jaata

Jo Samay Nirdharit Mere

Wahi Samay Prabandh Ho Paate

Subah Subah Jub Der Hoty

Sham Hamary Der Se Aaty

Bus Antar Itna Hota

Ki Antral Bhi Saath Hoty

Ghari Tik Tik Chalaty Rahaty

Hum Nahi Chal Paate Hai

Samay Ki Pagdandiyo Pe Bhagate Hi Rah Jaate Hai

Moh-Moh Ka Bandhan Hai Isase Kub Chhut Payenge

Samay Bara Balwan Hai Hakikat Me Kub Layenge