सपना | MOTIVATIONAL POEM | POETRY BY ASHUTOSH

सपना

moon, star, night
sapne re sapane re sapne mere

सपनो के यथार्थ में रहना
कि होश गुमसुम हो जाये
कोई कुछ बता दे तो
वास्तविकता से परिचय हो जाये
सपनो में रहना नींद में रहने के बराबर है
सपनो में जीना आसमानो में उड़ने के बराबर है
ए जिंदगी कुछ ऐसा सीखा दे
कि सपना टूटे तो धरातल पर विचरण हो जाये
आँखे बंद हो तो सपने दस्तक दे जाते है
जिंदगी की घटनाओ को बार-बार दोहराते है
क्या जताना चाहते है ये सपने कुछ नहीं बता पाते
हर घड़ी हर छोर कुछ अधुरी कहानी कहते है
वही कहानी खुली आँखों में होते है
पर आँख खुली हो तो सपनो को जगाना पड़ता है
उन सपनो में खुद को ढालना पड़ता है
बंद आँखों के सपने कुछ छोर के होते है
पर खुली आंख के सपने आपकी दुनिया बदल देते है
आखिर क्या जाताना चाहते है ये सपने
हर घड़ी किसी मोड़ पर कुछ बताना चाहते है
अधुरी कहानी कुछ कहते है
वही कहानी खुली ऑंख से दिखाना चाहते है
उन सपनो में खुद को ढालना
फिर सपनो में खुद ही ढलना
बस कल और आज में फर्क न हो
बस फर्क इतना पल ह पल में चलना चाहते है
वास्तविक जीवन में सपनो की कुछ और कहानी होती है
पर सच हो जाये सपने तो वास्तविक जीवन भी एक फिल्म कहानी होती है

SAPANA

moon, star, night
sapne re sapane re sapne mere

Sapano Ke Yatharth Me Rahana

Ki Hosh Gumsum Ho Jaaye

Koi Kuch Bata De To

Wastvikata Se Parichay Ho Jaaye

Sapano Me Rahana Neend Me Rahane Ke Barabar Hai

Sapano Me Jeena Asmano Me Urano Ke Barabar Hai

A Jindagi Kuch Asa Seekha De

Ki Sapana Tute To Dharatal Par Vicharan Ho Jaaye

Ankhe Band Ho To Sapane Dastak De Jaate Hai

Jindagi Ki Ghatnaw Ko Baar-Baar Dohraate Hai

Kya Jatana Chahate Hai Ye Sapane Kuch Nahi Bata Paate

Her Ghari Her Chhor Kuch Adhuri Kahani Kahate Hai

Wahi Kahani Khuli Ankho Me Hote Hai

Per Ankh Khuli Ho To Sapano Ko Jagana Parata Hai

Un Sapano Me Khud Ko Dalana Partaa Hai

Per Ankhe Band Ho To Sapane Kuch Chhor Ke Hote Hai

Aur Khuli Ankho Ke Sapane Apki Duniya Badal Dete Hai

Akhir Kya Jatana Chahate Hai Ye Sapane Kuch Nahi Bata Paate

Her Ghari Her Chhor Kuch Adhuri Kahani Kahate Hai

Wahi Kahani Khuli Ankho Se Dikhana Chahate Hai

Un Sapano Me Khud Ko Dalana

Phir Sapano Me Khud Hi Dalana

Bus Kal Aur Ajme Phark N Ho

Bus Phark Itna Ki Pal H Pal Me Chalana Chahate Hai

Wastvik Jiwan Me Sapano Ki Kuch Aur Kahani Hoty Hai

Per Such Ho Jaaye Sapane To Wastvik Jiwan Bhi Ak Film Kahani Hoty Hai