हौसलों में है दम - Poetry by Ashutosh
running, moscow, the kremlin

हौसलों में है दम

तो कुछ कर लेंगे हम।

चाहे कोई भी परिस्थिति आये

हर परिस्थिति से लड़ लेंगे हम।

होगा कभी गम

तो उसमे भी खुशिया ढूढ लेंगे हम। 

वो जिंदगी जो चाहे जी लेंगे हम 

वो जिंदगी जो चाहे जी लेंगे हम। 

अगर होगा कभी गम

तो भी सह लेंगे हम। 

जिंदगी के गम से

खुशियाँ भी ढूढ लेंगे हम। 

ख्वाब जो देखा है पूरा कर लेंगे 

उस ख्वाब को सजाकर सपनो में रख लेंगे। 

ख्वाब को सच करने में उसका कल आज गढ़ लेंगे हम

वो जिंदगी जो चाहे जी लेंगे हम। 

हौसलों में हो दम…. 

अब अपने हौसले को कभी टूटने ना देंगे हम 

अपनी जिंदगी को कभी पीछे छूटने ना देंगे हम 

चाहे कितनी भी तकलीफे आ जाये 

पर इस दिल को कभी रूठने ना देंगे हम।

हौसलों में हो दम..

HAUSALO ME HAI DUM

Hausalo Me Hai Dum

To Kuch Kar Lenge Hum

running, moscow, the kremlin

Chahe Koi Bhi Paristhity Aye

Her Paristhity Se Lar Lenge Hum

Agar Hoga Kabhi Gum

To Usame Bhi Khusiya Dhud Lenge Hum

Wo Jindagi Jo Chahe Jee Lenge Hum

Wo Jindagi Jo Chahe Jee Lenge Hum

Agar Hoga Kabhi Gum

To Bhi Sah Lenge Hum

Jindagi Ke Gum Se Khusiya Bhi Dhud Lenge Hum

Khwab Jo Dekha Hai Pura Kar Lenge

Us Khwab Ko Sajakar Sapano Me Rakh Lenge

Khwab Ko Such Karane Usaka Kal Aj Gar Lenge Hum

Wo Jindagi Jo Chahe Jee Lenge Hum

Hausale Me Ho Dum……

Ab Apane Hausale Ko Kabhi Tutane Na Denge Hum

Apani Jindagi Ko Pichhe Chhutane Na Denge Hum

Chahe Kitani Bhi Takleefe Aa Jaye

Per Iss Dil Ko Kabhi Ruthane Na Denge Hum

Hausale Me Ho Dum… …

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *