हौसलों में है दम Archives - Poetry by Ashutosh
flood, elbe, meissen

कुछ सर्ग कामायनी जैसे फिर से धरती पर उतर गये,
फिर से जल प्लावन दृश्य पुराने इसी धरा पर उभर गये।
सम्बन्ध श्वास के औ’ तन के फिर से मन को तड़पाएँगे,
फिर से पुरवाई आयेगी, पर वे दिन लौट न पाएंगे।

Read More
children, children playing, children's

कुछ मिलता, कुछ खो जाता है,
जगे कोई, कोई सो जाता है,
छीन अगर लेता है कुछ युग,
जीवन कुछ तो दे जाता है।
जीत-हार के जैसी थी।
नटखट बचपन,चंचल यौवन,दुःखी बुढ़ापे जैसी थी।

Read More
running, moscow, the kremlin

हौसलों में है दम

तो कुछ कर लेंगे हम।

चाहे कोई भी परिस्थिति आये

हर परिस्थिति से लड़ लेंगे हम।

होगा कभी गम

तो उसमे भी खुशिया ढूढ लेंगे हम। 

वो जिंदगी जो चाहे जी लेंगे हम 

वो जिंदगी जो चाहे जी लेंगे हम। 

Read More