fbpx
-
DAYS
-
HOURS
-
MINUTES
-
SECONDS

THIS YEAR 2024 READ MORE WEB STORY

amitabh bachhan poem

तू खुद ही सोच के निकल

amitabh bachhan poem

तू खुद ही सोच के निकल
तू किस लिए हताश है

तू चल, तेरे रास्ते को
तुझ जैसे राही का इंतजार है
जिस दायरे से सिमट रहा
वो दायरा बढ़ा ले तू
कब तक यूही सिमट सका
उस दायरे से आगे निकल ले तू
बस सम्हल ले तू,
सम्हल ले तू

तू खुद ही सोच के निकल
तू किस लिए हताश है
तू चल, तेरे रास्ते को
तुझ जैसे रही का इंतजार है

बना के सोच का किनारा
उन किनारो से चल ले तू
तू नित-नित नए-नए द्वीप जला
तेरे आगे है भविष्य खड़ा
तेरे आगे है भविष्य खड़ा

तू खुद ही सोच के निकल
तू किस लिए हताश है
तू चल, तेरे वास्ते समझा है ये जहाँ
तू जीत की मिशाल है
तू जीत की मिशाल है

अब न रुक तू चल चला चल
समय का कब कहर बरपा
उससे पहले ऊँचाइयों को छू के तू
वापस फिर लौट आ
वापस फिर लौट आ
तू खुद ही सोच के निकल
तू किस लिए हताश है

Tu Khud Hi Soch Ke Nikal

Tu Kis Liye Hatash Hai

Tu Chal Tere Raaste Ko

Tujh Jaise Rahi Ka Intjar Hai

Jis Dayare Se Simat Raha

Wo Dayara Bada Le Tu

Kab Tak Yuhi Simat Saka

Us Dayare Se Age Nikal Le Tu

Bas Samhal Le Tu

Samhal Le Tu

Tu Khud Hi Soch Ke Nikal

Tu Kis Liye Hatash Hai

Tu Chal Tere Raste Ko

Tujh Jaise Rahi Ka Intjar Hai

Bana Ke Soch Ka Kinara

Un Kinaro Se Chal Le Tu

Tu Nit Nit Naye Naye Dwip Jala

Tere Age Hai Bhavishya Khada

Tere Age Hai Bhavishya Khada

Tu Khud Hi Soch Ke Nikal

Tu Kis Liye Hatash Hai

Tu Chal Tere Waste Samajha Hai Ye Jahan

Tu Jeet Ki Mishal Hai

Tu Jeet Ki Mishal Hai

Ab N Ruk Tu Chal Chala Chal

Samay Ka Kab Kahar Barapa

Usase Pahale Unchaiyo Ko Chhu Ke Tu

Wapas Fir Laut Aa

Wapas Fir Laut Aa

Tu Khud Hi Soch Ke Nikal

Tu Kis Liye Hatash Hai

Related Posts

Unlocking Benefits: How Virtual Reality Headsets Boost Health and Fun How AI Models Are Changing Our Lives What is cryptocurrency? Know How much Bitcoin has increased in 24 hours 2000 रुपये किसान सम्मान निधि का हुआ एलान